1. मदरसा बोर्ड का गठन:-

पृष्ठभूमि- राजस्थान में लगभग 3204 मदरसे पंजीकृत हैं | विभिन्न शहरो, कस्बो, दूरस्थ गावों , ढाणियों एवं मंजरो में छोटे-बड़े रूप में संचालित है| इन मदरसों में बड़ी तादाद में मुस्लिम समुदाय के बच्चे दीनी तालीम हासिल कर रहे हैं | अनुमानतः लगभग 2.50 लाख विद्यार्थी आधुनिक शिक्षा हेतु इन मदरसो में अध्यनरत हैं | वर्तमान में 3204 मदरसे आधुनिक शिक्षण सहायतार्थ राजस्थान मदरसा बोर्ड में पंजीकृत हैं | जिनमें प्राथमिक स्तर के 2889 व उच्च प्राथमिक स्तर के 315 मदरसे हैं | इन बच्चों को दुनियावी तालीम (हिंदी,अंग्रेजी,गणित,विज्ञान,सामाजिक ज्ञान विषयों की प्रारंभिक व उच्च प्राथमिक स्तर की शिक्षा) के लिए मदरसों का पंजीयन कर आधुनिक शिक्षा हेतु सुविधाएं उपलब्ध करवाने का कार्य राजस्थान बोर्ड ऑफ मुस्लिम वक़्फ़ के माध्यम से वर्ष 1999-2000 से शुरू किया गया था |

पंजीयन नीति के लिए यहाँ क्लिक करे

वर्तमान स्वरुप - राजस्थान मदरसा बोर्ड का गठन प्रारंभिक शिक्षा विभाग के पत्र क्रमांक प. 16(1) शिक्षा-1 प्राशि/2002 दिनांक 27.01.2003 संशोधन आदेश दिनांक 11.08.2003 द्वारा किया गया |

अल्पसंख्यक मामलात विभाग के आदेश क्रमांक: निस/प्रशा./अ. म. वक़्फ़ /2011/111 दिनांक 04.02.2011 द्वारा राजस्थान मदरसा बोर्ड, जयपुर के संचालक हेतु नियम एवं विनियम तथा वित्तीय प्रबंधन लागू किये गए हैं । जिनमे बोर्ड के उद्देश्यों, बोर्ड गठन की संरचना, वित्तीय अधिकारों का विवरण दिया गया हैं । उक्त नियमों के तहत ही बोर्ड द्वारा गतिविधियों का संचालन किया जाता हैं |

उद्देश्य - राजस्थान सरकार द्वारा ऐसा महसूस किया गया कि राज्य में संचालित इन मदरसों में केवल दीनी तालीम दी जाती है । इनमें से अधिकांश बच्चे आधुनिक शिक्षा हेतु किसी भी सरकारी अथवा गैर सरकारी स्कूल में नामांकित नहीं हैं फलतः यह बच्चे आधुनिक शिक्षा से महरूम हो रहे थे । अतः इन बच्चों को मदरसे में ही आधुनिक शिक्षा दिए जाने के उद्देश्य से समाज एवं सरकार की सहभागिता के तहत राजस्थान मदरसा बोर्ड का गठन किया गया हैं । मदरसा बोर्ड द्वारा इस उद्देश्य की पूर्ति हेतु निम्न क्रिया- कलाप किये जा रहे हैं :-

1. राज्य में संचालित वह मदरसे जिनमें अध्ययनरत बच्चे किसी भी सरकारी अथवा गैर सरकारी स्कूल में आधुनिक शिक्षा नहीं ले रहे है, उन बच्चों को मदरसों में ही राजस्थान स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा निर्धारित सप्ताह में छ दिवस दैनिक 5-6 घंटे की आधुनिक शिक्षा देने के उद्देश्य से समाज एवं सरकार की सहभागिता के तहत उन मदरसों को मदरसा बोर्ड में पंजीयन करवाने हेतु प्रेरित करना । राज्य सरकार द्वारा इसके लिए पंजीयन नीति तैयार की गई एवं निर्धारित मापदंड पूर्ण करने वाले मदरसों के पंजीयन का प्रावधान रखा गया |

2. पंजीकृत मदरसों को आधुनिक शिक्षा ( गणित, विज्ञानं, सामाजिक ज्ञान, अंग्रजी, हिंदी के भी ) अध्यापन हेतु शिक्षा सहयोगी उपलब्ध करवाना |

3. पंजीकृत मदरसों को शिक्षण-प्रशिक्षण सामग्री उपलब्ध करवाना |

4. पंजीकृत मदरसों को आधारभूत संरचना विकास हेतु भवन अनुदान देना |

5. पंजीकृत मदरसों को आधुनिक शिक्षा हेतु सुविधाएं यथा- बर्तन,दरी-पट्टी व फर्नीचर इत्यादि उपलब्ध करवाना ।

6. पंजीकृत मदरसों में अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए कंप्यूटर साजो-सामान उपलब्ध करवाना |

7. पंजीकृत मदरसों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को शिक्षा विभाग के माध्यम से निःशुल्क पाठ्य- पुस्तकें उपलब्ध करवाने हेतु समन्वय का कार्य |

8. पंजीकृत मदरसों में अध्ययनरत विद्यार्थियों को मिड-डे-मील कार्यक्रम के तहत पोषाहार उपलब्ध करवाने हेतु समन्वय का कार्य |

9. पंजीकृत मदरसों में अध्ययनरत विद्यार्थियों के स्वास्थ्य हेतु चिकित्सा विभाग द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ पहुँचाने हेतु समन्वय का कार्य |

10. केंद्र प्रवर्तित योजनाओं के तहत मदरसों को लाभांवित करने हेतु प्रस्ताव राज्य सरकार के माध्यम केंद्र सरकार को भेजना |

3. कार्यालय व्यवस्था -

बोर्ड के नियम, विनियम तथा वित्तीय प्रबंधन के तहत अध्यक्ष, मदरसा बोर्ड को विभागाध्ययक्ष एवं सचिव, मदरसा बोर्ड को कार्यालयध्यक्ष की शक्तियां प्रदत्त की गई हैं । राजस्थान मदरसा बोर्ड का स्वयं का कोई स्टाफ नहीं है । समस्त पद प्रतिनियुक्ति के हैं |

4. बोर्ड की सरचना

राज्य सरकार द्वारा किये गए आदेशों के अनुसार बोर्ड में एक अध्यक्ष एवं 15 सदस्य मनोनीत किये जाते हैं । मदरसा बोर्ड सचिव पदेन सदस्य सचिव होता हैं |

बोर्ड के अध्यक्ष एवं सदयसों का मनोनयन राज्य सरकार के स्तर से किया जाता हैं ।

5. बोर्ड कार्यालय का क्रमिक ढांचा :-

बोर्ड में अध्यक्ष व सचिव के अतिरिक्त निम्न 34 क्रमिकों के पद स्वीकृत हैं ।

क्रमांक संख्या पदनामपदों की संख्या
1सचिव1
2निजी सचिव2
3लेखाकार1
4सहायक लेखाधिकारी-I1
5शैक्षिक अधिकारी1
6कम्प्यूटर प्रोग्रामर1
7सहायक सांख्यिकी अधिकारी2
8निजी सहायक1
9सहायक लेखाधिकारी-II3
10कनिष्ठ लेखाकार1
11कनिष्ठ विधि सहायक1
12कनिष्ठ अभियंता1
14क्लर्क ग्रेड-II10
15चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी5

3. बोर्ड के अधीनस्थ कार्यालय :-

बोर्ड का एक मात्र कार्यालय जयपुर शहर में संचालित है । इसके अतिरिक्त कोई अधीनस्थ कार्यालय राज्य में संचालित नहीं हैं । ज़िलों में स्थित जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी, अल्पसंख्यक मामलात विभाग के माध्यम से जिला स्तर पर बोर्ड का कार्य सम्पादित करवाया जाता है |